Friday, 17 May 2013

आँखों का इलाज - Ankho Ka Ilaz

आँखों का इलाज - Ankho Ka Ilaz

मैं आज चालीस साल का हूँ पर सेक्स का खुमार तो अभी भी बहुत है। एक तो वैसे ही मेरा जॉब घूमने वाला है और मैं भारत में घूमता रहता हूँ और हफ्ते में केवल दो तीन दिन के लिए ही घर जा पाता हूँ इसलिए जब घर जाता हूँ तो मेरी बीबी तो थक ही जाती है।

अब मैं अपनी पहली चुदाई के बारे में बताता हूँ।

उस समय मैं 18 साल का था, मेरी दूर की नज़र थोड़ी कमजोर थी। उस समय दिल्ली में एक डॉक्टर आया जो इलाज से चश्मा उतरवा देता था। बस मैं भी उसके पास पहुच गया। वहाँ पर एक हफ्ते तक रहना था। मेरे साथ वाले पलंग पर एक छोटी लड़की भी इलाज़ करवा रही थी। मेरे चश्मे का नंबर तो केवल -1 था पर उसका नंबर उस समय -3.5 था। उसके साथ उसकी मम्मी रहती थी।

यह दूसरी रात की बात है, जब सब सो रहे थे कि अचानक मुझे अपने पैर पर किसी का हाथ महसूस हुआ। मैंने धीरे से आँख खोल कर देखा तो पता चला कि लड़की की माँ जो मेरे पैरों की तरफ मुँह करके सो रही थी वो मेरे पैरों को सहला रही थी।

मैं कुछ नहीं बोला, चुपचाप सोने का बहाना करता रहा। हम दोनों के पलंग में केवल ६" का फासला था। थोड़ी देर में उसने मेरा पैर पकड़ कर अपने पास खींच लिया और अपने सीने पर दबा दबा कर रगड़ने लगी। अब मेरा लंड भी खड़ा हो गया लेकिन मैं फिर भी आराम से लेटा रहा क्योंकि यह मेरा पहला मौका था इसलिए मेरी गांड फट रही थी।

पर थोड़ी देर बाद मैंने हिम्मत करके अपने पैर के अंगूठे से उसके मोमों को रगड़ना शुरु कर दिया। इतने में अचानक उसने अपना ब्लाऊज़ ऊपर करके अपने मोमे बाहर निकाल लिए। उसने ब्रा भी नहीं पहनी थी। इस अचानक हुए परिवर्तन ने मेरी हवा निकाल दी। मुझे डर लग रहा था कि अगर कोई आ गया या कोई उठ गया तो क्या होगा !

पर वो आराम से मेरे पैर से अपने मम्मे मलवा रही थी।

धीरे धीरे मेरे हिम्मत भी बढ़ गई और मैं थोड़ा नीचे को सरक गया और पूरा जोर लगा कर अपने पैरों से उसके स्तन मलने लगा। उसने धीरे से अपना हाथ आगे करके मेरे लंड को पकड़ लिया और जोर से मलने लगी। मेरी तो जैसे जान ही निकल गई। फिर मैंने अपनी साइड बदल कर उसकी तरफ मुँह कर लिया और उसके मोमे जोर जोर से दबाने लगा। उसके मोमे बहुत ही नर्म-मुलायम थे। फिर धीरे से मैंने आगे को झुक कर उसके चुचूक को मुँह में ले लिया और जोर से चूसने लगा। मैंने इतनी जोर से चूसा कि उसकी आह निकल गई। मैंने पहली बार किसी के मोमे चूसे थे इसलिए मैं तो पागल हुआ जा रहा था।

फिर मेरी हिम्मत और बढ़ गई और मैं चूसने के साथ साथ उसके मोम्मों को कस कस कर दबाने लगा।

वो बोलने लगी- और दबा जोर जोर से !

दस मिनट तक हम ऐसे ही मजे लेते रहे। वो मेरा लंड दबा रही थी और मैं उसके मोमे चूस रहा था और दबा रहा था। लेकिन जगह कम होने की वजह से हम और कुछ नहीं कर सकते थे। फिर मैंने उसकी साड़ी ऊपर करके उसकी चूत में उंगली डाल दी और जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा और वो मस्ती में मेरे लंड को रगड़ने लगी। कुछ देर बाद हम दोनों का माल निकल गया।

कुछ देर तो हम दोनों आराम से लेटे रहे, फिर वो बोली- मजा आया ?

मैंने कहा- बहुत मजा आया !

तो वो बोली- कभी किसी को चोदा है ?

मैंने कहा- नहीं !

तो वो बोली- कभी मेरे घर आना, तो बहुत मजे दूँगी और तुम्हें चोदना भी सिखा दूँगी।

अगले दिन जब मैं, वो उसकी बेटी सब एक साथ बैठे थे, तो उसने सेब निकाले और सब को काट कर खिलाने लगी। बाद में जब सब अपने पलंग पर चले गये तो मैंने उससे कहा- ये क्या छोटे छोटे सेब खिला रही हो !

तो वो बोली- अगर बड़े सेब खाने हैं तो घर आना पड़ेगा ! फिर तुम्हें असली मुलायम और बड़े सेब खिलाउंगी।

मैंने कहा- फिर तो पक्का तुम्हारे घर आना ही पड़ेगा।

उसने अपना पता और फोन नम्बर मुझे दे दिया। फिर कुछ दिनों के बाद हम अस्पताल से अपने अपने घर चले गये।

एक दिन मैने सोचा कि चलो देखे कि वो कितना सच बोल रही थी और मैने उसे फोन किया तो उसने मुझे अपने घर पर आने के लिये बोला।

वो बोली- सुबह 11 बजे मेरे पति काम पर चले जाते हैं, फिर घर पर अकेली हूंगी।

अगले दिन मै ठीक 11 बजे उसके घर पर पहुँच गया। मैने उसके घर की घन्टी बजाई तो उसने ही दरवाजा खोला। उस समय उसने गाउन पहाना हुआ था। मुझे देखते ही वो बहुत खुश हुई और जोर से बोली- वेलकम।

मेरी तो गान्ड फट रही थी, क्योंकि यह मेरी पहली बार थी। खैर मैं उसके घर के अन्दर चला गया। जैसे ही मैं अन्दर गया उसने दरवाजा बन्द कर दिया।क्योंकि मै डर रहा था इसलिये पहले मैंने पूरे घर का एक चक्कर लगाया यह कह कर कि पहले तुम्हारा घर तो देख लूँ। फिर जैसे ही मैं उसके बेडरूम में पहुँचा, उसने कहा- देख लिया ! घर पर कोई नहीं है।

मैं कुछ नहीं बोला, बस उसकी तरफ देख कर मुस्करा दिया। तो वो हंसने लगी और मुझे पकड़ कर एक जोरदार पप्पी कर दी।

बस फिर क्या था, मैंने भी उसे कस कर पकड़ लिया और चूमने लगा। उसने एक दम से मुझे पलंग पर गिरा दिया, मेरे ऊपर लेट गई और कहने लगी- तुझे बड़े बड़े सेब खाने थे ना ? ले आज जी भर कर खा ले !

और उसने अपना गाउन नीचे को करके अपना एक मोमा मेरे मुँह में दे दिया जिसे मैं कस कर चूसने लगा। वो जोर जोर से आह आह करने लगी। उसकी आह सुन कर मेरा लन्ड जोर जोर से फड़कने लगा। मैंने एकदम से पल्टी ली और उसको नीचे दबा लिया और एक हाथ से उसके एक मोमे को कस कर दबाने लगा और दूसरे को चूसते हुए नीचे कपड़ों के ऊपर से ही लन्ड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा।

वो भी एकदम गरम हो गई और उसने मेरे सारे कपड़े एक मिनट में उतार दिये और अपना गाउन भी उतार दिया। जैसे ही उसने अपना गाउन उतारा, मेरी तो हालत ही खराब हो गई क्योंकि मैं पहली बार किसी औरत को एकदम नंगा देख रहा था। मेरा लन्ड फटने को तैयार था। इतने में ही उसने मेरे लन्ड को पकड़ कर दबा दिया। मेरी हालत बिल्कुल पागलों वाली हो रही थी।

उसने मुझे पलंग पर गिरा दिया और एकदम से मेरे लन्ड पर बैठ गई और पूरा का पूरा लन्ड अन्दर ले लिया।

लन्ड अन्दर जाते ही क्या सकून मिला ……….…

बता पाना बहुत मुशकिल है ! पहली बार मेरा लन्ड किसी चूत मे गया था।

मैं तो बस स्वर्ग में पहुँच गया था और मेरे साथ साथ उसे भी शायद मजा आया। मैं नहीं जानता था कि ऐसा मजा भी होता है ! मैं तो बस उड़ रहा था और यह शायद उसे भी समझ आ रहा था इसलिये वो बस आराम से बैठी थी।

फिर एक मिनट के बाद वो बोली- क्या हुआ रा…………जा? यह तो बस शुरुआत है !

अब तक मैं भी अपने होश में वापस आ चुका था। मैंने कहा- चिन्ता मत करो और शुरु हो जाओ।

बस फिर क्या था, उसने ऊपर से धक्के लगाने शुरु कर दिये। मैं तो बस मजे से लेटे लेटे मजे ले रहा था, कि वो एकदम से बैठ गई और अपनी चूत को मेरे लन्ड पर कस लिया।

मैंने पूछा- क्या हुआ ?

तो वो बोली- मैं तो गई !

इस पर मैंने कहा- अभी तो शुरुआत है !

तो वो हंसने लगी और बोली- अब तू धक्के लगा !

फिर क्या था, मैंने पल्टी लगाई और उसको नीचे दबा लिया। अब तक मैं भी समझ चुका था कि चुदाई कैसे होती है।

बस सबसे पहले तो उसके मोटे मोटे मोमों को दबाने लगा फिर एक एक को मुँह में ले कर बारी बारी से चूसने लगा। वो भी फिर से मस्ती में आने लगी और कहने लगी- बहुत मजा आ रहा है और जोर से चूस…… काट कर खा जा बस !

मैंने उसके कहने के साथ ही उसके निप्प्ल को हल्के से काट लिया। वो आ…………………ह कर उठी और बोली- चू…स खा…ली कर दे ! काट ! सेब क्या इतने आराम से काटते हैं?

यह सुन कर मुझे भी जोश चढ़ गया और मैं जोर जोर से उसके मोमों को चूसने और काटने लगा। इधर मेरे लन्ड की हालत खराब हो रही थी। तभी वो बोली- अपना लन्ड भी घुसा दे और फाड़ दे मेरी चूत !

बस फिर मैंने एकदम से लन्ड उसकी चूत में पेल दिया और धक्के लगाने लगा। अभी दस मिनट ही हुए थे, कि वो बोली- तेज और तेज !

मैंने जोरदार धक्के लगाने शुरु कर दिये। तेज और तेज कहते कहते उसने मेरा सर अपने मोमों पर जोर से दबा दिया और अपनी टाँगें मेरी कमर पर कस ली और नीचे से उछल उछल कर धक्के लगाने लगी।

इस जोरदार चुदाई से 5 मिनट में हम दोनों स्खलित हो गये और मैं उसके ऊपर लेट गया। हम दोनों अपनी सांसों को सम्भाल कर कुछ देर बाद उठे तब तक बारह बज चुके थे।

वो बोली- अब मेरी बेटी स्कूल से आने वाली है इसलिए फिर कभी !

हम उठ गये और अपने कपड़े पहनने लगे तो वो बोली- मजा आ गया ! मेरा पति तो बस 20-25 धक्कों में ही झड़ जाता है। फिर कब मिलोगे?

मैंने कहा- तुमने मुझे पहला सेक्स अनुभव कराया है ! तुम जब बोलोगी, मैं हाजिर हो जाऊंगा।

अब तक हम अपने कपड़े पहन चुके थे और वो बाहर जाने के लिये तैयार थी। ज़ब हम गेट के पास पहुँचे तो उसने फिर से मुझे पकड़ लिया और एक प्यारी सी पप्पी दी और बोली- अगली बार और मजे करेंगे।

उसके बाद हम और भी कई बार मिले और सेक्स किया। अगर वक्त मिला तो बाकी के किस्से भी लिख़ूंगा।

invgupta@yahoo.com

0 comments:

Post a Comment